लक्ष्मण स्तुति २ - विनय पत्रिका ३८ - तुलसीदास

लक्ष्मण स्तुति - विनयपत्रिका - तुलसीदास
>
॥ श्री सीतारामाभ्यां नमः ॥
विनय पत्रिका ३८
लक्ष्मण स्तुति २
राग धनाश्री
जयति
लक्ष्मणानंत भगवंत भूधर, भुजग-राज, भुवनेश, भूभारहारी।
प्रलय-पावक-महाज्वालमाला-वमन, शमन-संताप लीलावतारी ॥ १ ॥
जयति दाशरथि, समर-समरथ, सुमित्रा-सुवन, शत्रुसूदन, राम-भरत-बंधो।
चारु-चंपक-वरन, वसन-भूषन-धरन, दिव्यतर, भव्य, लावण्य-सिधों ॥ २ ॥
जयति गाधेय-गौतम-जनक-सुख-जनक, विश्व-कंटक-कुटिल-कोटि-हंता।
वचन-चय-चातुरी-परशुधर-गरबहर, सर्वदा रामभद्रानुगंता ॥ ३ ॥
जयति सीतेश-सेवासरस , बिषयरस- निरस, निरुपाधि धुरधर्मधारी।
विपुलबलमूल शार्दूलविक्रम जलद- नाद-मर्दन, महावीर भारी ॥ ४ ॥
जयति संग्राम-सागर-भयंकर-तरन, रामहित-करण वरबाहु-सेतु।
उर्मिला-रवन, कल्याण-मंगल-भवन, दासतुलसी-दोष-दवन-हेतू ॥ ५ ॥
भावार्थ :- लक्ष्मणजीकी जय हो, जो अनन्त, छः प्रकारके ऐश्वर्यसे युक्त, पृथ्वीको धारण करनेवाले सर्पराज शेषनागके अवतार, सारे संसारके स्वामी, पृथ्वीके भारको दूर करनेवाले, प्रलयकालके समय अग्निकी भयंकर ज्वालाएँ उगलनेवाले, जगतके सन्तापको नाश करनेवाले और अपनी लीलासे ही अवतार धारण करनेवाले हैं ॥१॥
दशरथ-पुत्र श्रीलक्ष्मणजीकी जय हो, जो संग्राममें सर्वशक्तिमान, सुमित्राजीके पुत्र, शत्रुओंका नाश करनेवाले और श्रीरामजी तथा भरतजीके प्यारे भाई हैं। जिनके सुन्दर शरीरका रंग चम्पेके फूलके समान है, जो अत्यन्त दिव्य एवं भव्य वस्त्र और आभूषण धारण किये हैं और सौन्दर्यके महान् समुद्र हैं ॥२॥
विश्वामित्र, गौतम और जनकको सुख उत्पन्न करनेवाले, संसारके लिये करोड़ों काँटेके समान कुटिल राक्षसोंको मारनेवाले, चतुराईकी बहुत सी बातोंसे ही परशुरामजीका गर्व हरनेवाले और सदा श्रीरामजीके पीछे-पीछे चलने वाले लक्ष्मणजीकी जय हो ॥३॥
सीतापति श्रीरामजीकी सेवामें परम अनुरागी, विषय- रसके विरागी, कपटरहित होकर श्रीराम-सेवारुपी धर्मकी धुरीको धारण करनेवाले, अनन्त बलके आदिस्थान, सिंहके समान पराक्रमवाले, मेघनादका मर्दन करनेवाले अत्यन्त महावीर लक्ष्मणजीकी जय हो ॥४॥
भयानक संग्रामरुपी समुद्रको अनायास ही पार कर जानेवाले, श्रीरामजीके हितके लिये अपनी सुन्दर भुजाओंका पुल बनानेवाले, उर्मिलाजीके पति, कल्याण तथा मंगलके स्थान और तुलसीदासके पापोंके नाश करनेमें मुख्य कारण, ऐसे श्रीलक्ष्मणजीकी जय हो ॥५॥
ध्यान दो - वास्तव में राम ही लक्ष्मण बने है। विस्तार पूर्वक जानने के लिए पढ़े राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न विष्णु ही थे - रामायण प्रमाण।