शत्रुघ्न स्तुति - विनय पत्रिका ४० - तुलसीदास

शत्रुघ्न स्तुति - विनयपत्रिका - तुलसीदास
॥ श्री सीतारामाभ्यां नमः ॥
विनय पत्रिका ४०
शत्रुघ्न स्तुति
राग धनाश्री
जयति जय शत्रु-करि-केसरी शत्रुहन,
  शत्रुतम-तुहिनहर किरणकेतू।
देव-महिदेव-महि-धेनु-सेवक सुजन-
  सिद्धि-मुनि-सकल-कल्याण-हेतू ॥ १ ॥
जयति सर्वांगसुदंर सुमित्रा-सुवन,
  भुवन-विख्यात-भरतानुगामी।
वर्मचर्मासी-धनु-बाण-तूणीर-धर
  शत्रु-संकट-समय यत्प्रणामी ॥ २ ॥
जयति लवणाम्बुनिधि-कुंभसंभव महा-
  दनुज-दुर्जनदवन, दुरितहारि।
लक्ष्मणानुज, भरत-राम-सीता-चरण-
  रेणु-भूषित-भाल-तिलकधारी ॥ ३ ॥
जयति श्रुतिकीर्ति-वल्लभ सुदुर्लभ सुलभ
  नमत नर्मद भुक्तिमुक्तिदाता।
दासतुलसी चरण-शरण सीदत विभो,
  पाहि दीनार्त्त-संताप-हाता ॥ ४ ॥
भावार्थ :- शत्रुरुपी हाथियों के नाश करनेको सिंहरुप श्रीशत्रुघ्नजी की जय हो, जय हो, जो शत्रुरुपी अन्धकार और कुहरे के हरने के लिये साक्षात् सूर्य हैं और देवता, ब्राह्मण, पृथ्वी और गौके सेवक, सज्जन, सिद्ध और मुनियों का सब प्रकार कल्याण करने वाले हैं ॥१॥
जिनके सारे अंग सुन्दर हैं, जो सुमित्राजी के पुत्र और विश्व-विख्यात भरतजी की आज्ञा में चलने वाले हैं; जो कवच, ढाल, तलवार, धनुष, बाण और तरकस धारण किये हैं और शत्रुओं द्वारा दिये हुए संकटों का नाश करने वाले हैं; उन शत्रुघ्नजी को मैं प्रणाम करता हूँ ॥२॥
लवणासुररुपी समुद्र को पान करने के लिये अगस्त्य के समान, बड़े-बड़े दुष्ट दानवों का संहार करने वाले और पापों का नाश करने वाले शत्रुघ्नजी की जय हो। ये लक्ष्मणजी के छोटे भाई हैं और भरतजी, श्रीरामजी तथा सीताजी के चरणकमलों की रजका मस्तकपर सुन्दर तिलक धारण करने वाले हैं ॥३॥
श्रुतिकीर्तिजी के पति हैं, दुष्टों को दुर्लभ और सेवकों को सुलभ हैं, प्रणाम करते ही सुख, भोग और मुक्ति देने वाले हैं, ऐसे शत्रुघ्नजी की जय हो। हे प्रभो! यह तुलसीदास तुम्हारे चरणों की शरण आकर भी दुःख भोग रहा है, हे दीन और आर्तों के सन्ताप हरने वाले! उसकी (तुलसीदास की) रक्षा करो ॥४॥
ध्यान दो - तुलसीदासजी शत्रुघ्नजी को पापों का नाश करने वाले, संकटों का नाश करने वाले, मुक्ति देने वाले हैं। यह सब कार्य या तो वास्तविक गुरु (भक्त, संत) कर सकते है या तो भगवान् कर सकते है। तात्पर्य यह है कि शत्रुघ्नजी यह सब कार्य करने में समर्थ है इसलिए या तो सिद्ध भक्त है या तो भगवान् होंगे। रामायण के अनुसार राम ही शत्रुघ्न बने है। वाल्मीकि रामायण में कहा है कि "इसके बाद कमलनयन श्री हरि ने अपने को चार रूपों में प्रकट करके राजा दशरथ को पिता बनाने का निश्चय किया।"